WTC Final: ऑस्ट्रेलिया ने द ओवल में आयोजित हो रहे विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में मजबूत पकड़ बना ली है। हालांकि अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की बेहतरीन पारी के कारण भारत अब तक हार नहीं माना है और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मुश्किल में डटा हुआ है। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 469 रन बनाए। जवाब में भारत के मुख्य बल्लेबाजों ने निराशा दिखाई। लेकिन 18 महीने बाद वापसी कर रहे अजिंक्य रहाणे ने एक छोटी संयुक्त पारी खेलकर मैच में अर्धशतक जड़ दिया है। उन्होंने एक विशेष उपलब्धि भी हासिल की है।

अजिंक्य रहाणे ने अपनी पारी की 92वीं गेंद पर छक्का (six) लगाकर अर्धशतक पूरा किया। इससे पहले वह विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में अर्धशतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। पहले भारतीय बल्लेबाज के रूप में रहाणे के पास विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में सर्वाधिक स्कोर बनाने का रिकॉर्ड भी है। उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले संस्करण के फाइनल में 49 रन की पारी खेली थी। इस बार के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए रहाणे ने अर्धशतक पूरा किया है।

Also read:  Video: फ्लाइंग मैन अवतार में दिखे अश्विन , उड़कर लपका कैच, वीडियो देख उड़ जायेगा होश

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के तीसरे दिन भारत की शुरुआत खराब रही। टीम ने विकेटकीपर बल्लेबाज केएस भरत (Rishabh Pant) का विकेट पहले ही ओवर में खो दिया। हालांकि इसके बाद रहाणे और शार्दुल ने पारी को संभाला और सातवें विकेट के लिए 70 से अधिक रनों का साझा ध्यान रखा है। ऑस्ट्रेलिया की महत्त्वपूर्ण रनों के जवाब में भारत की शुरुआत खराब रही। भारत ने चाय के विश्राम से पहले 10 ओवर में कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) से 15 रन और शुभमन गिल (Shubman Gill) से 13 रन के साथ 37 रन बनाए। रोहित को ऑस्ट्रेलियाई कप्तान पैट कमिंस (Pat Cummins) ने पगबंद किया, जबकि गिल को स्कॉट बोलैंड (Scott Boland) की गेंद को छोड़ने की कोशिश में बोल्ड किया गया।

Also read:  MS DHONI-इतने महान होकर भी जमीन से जुड़े हुए हैं MS DHONI !

चेतेश्वर पुजारा और विराट कोहली के विफलता से भारत को चौथा झटका

चाय के बाद भारत के इंग्लिश काउंटी सर्किट (English county circuit) में अच्छे फॉर्म में चल रहे चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) और विराट कोहली (Virat Kohli) से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन इन दोनों ने निराशा दिखाई। पुजारा ने भी गिल की तरह कैमरन ग्रीन (Cameron Green) की गेंद को छोड़ने की कोशिश में पूरी तरह से चूक कर बोल्ड हो गए। मिशेल स्टार्क (Mitchell Starc) ने इसके बाद उछाल लेती गेंद पर कोहली को स्लिप में स्टीव स्मिथ (Steve Smith) के हाथों कैच करवाकर भारत को चौथा झटका दिया। जडेजा (Ravindra Jadeja) और रहाणे ने इसके बाद पारी को संभाला। कमिंस ने रहाणे को 17 रन पर पगबंद कर दिया था, लेकिन डीआरएस (DRS) लेने पर पता चला कि यह नोबॉल गेंद थी।

Also read: WTC Final: 5 बड़ी वजहें जिसके चलते टीम इंडिया ने डाले 2 ही दिन में हथियार, हर बार एक जैसी वजहें?

Also read:  सूर्यकुमार यादव ने नागपुर में भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के पहले टेस्ट मैच में पदार्पण के संकेत दिए

जडेजा ने स्टार्क के अगले ओवर में दो चौकों के साथ जड़े, जबकि ग्रीन की गेंद को भी बाउंड्री के निशाने पर छोड़ा। भारत ने 26 ओवर में 100 रन पूरे किए। जडेजा ने बोलैंड पर छक्का जड़ने के बाद स्टार्क पर भी दो चौकों की शॉट्स मारी, लेकिन ऑफ स्पिनर नेथन लायन (Nathan Lyon) की गेंद पर स्लिप में स्मिथ को लगाया गया। जडेजा ने 54 गेंदों में 49 रन की पारी खेली और साथ ही रहाणे की मदद की।

इस संयुक्त पारी के बाद रहाणे और रविचंद्रन अश्विन ने अच्छी पारी खेली और भारत ने दिन को 213 रन के साथ समाप्त किया। यह उम्मीद है कि भारत अपनी पारी जारी रखकर ऑस्ट्रेलिया के पहले पारी के स्कोर को पार कर सके और बचाव कर सके।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *